Vedic Tale

स्वागत है आपका !

vedictale.com पर आप वेदों, शास्त्रों, उपनिषदों आदि की पौराणिक कथाओं व श्लोकों को पढ़कर ज्ञानार्जन कर सकते हैं ।

Subscribe
दो शब्द

हमारा उद्देश्य

इतिहास की अनंत गहराई में झाँके तो असंख्य ऋषि-मुनि हो चुके हैं जिन्होंने समाज के उत्थान और कल्याण के लिए अनेकों ग्रंथ लिख दिए । उन्होंने धर्म को मानव में जीवित रखने व जीवनमुक्ति के लिए वेदों, उपनिषदों, रामायण, महाभारत आदि जैसे अनेकों शास्त्रों द्वारा कई कथा, कहानी व प्रसंग लिखें। कई कथाएँ तो समाज में लोगों को आसानी से उपलब्ध हुए पर कई अभी शास्त्ररूपी संदूक में दबे हुए हैं । हमारा यही प्रयास है कि उन कथाओं को ढूंढकर, लिखकर आप तक सरल रुप में पहुँचायें ।

– Vedic Tale

दशहरा की महिमा व कथा | homepage
योद्धा महाराजा छत्रसाल | homepage
देशभक्त शहीद भगतसिंह | homepage
विजयादशमी – दशहरा की महिमा व कथा | दशहरा निबंध | Dussehra story
विजयादशमी – दशहरा की महिमा व कथा | दशहरा निबंध | Dussehra story
विजयादशमी – दशहरा की महिमा व कथा | दशहरा निबंध | Dussehra story
previous arrow
next arrow

नवीन कथाएँ (New Stories)

संगठन की शक्ति (प्रेरणादायी कहानी) Sangathan Ki Shakti (prerak kahani)

संगठन की शक्ति (प्रेरणादायी कहानी) Sangathan Ki Shakti (prerak kahani)

इस कहानी से हमें प्रेरणा मिलती है की संगठन में बडा बल होता है । हमें सभी को संगठित रहना चाहिए । ये बात उस समय की है जब हमारे देश में ईंधन के लिए लकडी या उपलों का उपयोग किया जाता था… संगठन की शक्ति

read more
अनुभव का आदर | Anubhav Ka Aadar | Prerak Kahani in hindi

अनुभव का आदर | Anubhav Ka Aadar | Prerak Kahani in hindi

रात में तेज बारिश हुई थी । सुबह तो और भी अधिक चमचमाती धूप निकली । बकरी का बच्चा माँ का दूध भरपेट पीकर मस्त हो गया । फिर हरी घाँस को देखकर फुदकने लगा । गीली…

read more

Categories

vrat tyohar katha

स्वास्थ्य अमृत

deshbhakton ki katha

देशभक्तों की कथा

magic 5483124 1280 | homepage

चमत्कारिक कहानियाँ

Guru Initiates Shishya 1 | homepage

गुरु-शिष्य की कथा

bhakton ki katha

भक्तों की कथा

inspirational stories

प्रेरक कहानियाँ

bachchon ki kahaniya

बच्चों की कथा

pauranik katha

पौराणिक कथाएँ

vrat tyohar katha

व्रत-त्यौहार कथाएँ

error: Content is protected !! Please read here.