मूक जीवों पर दया करो (ऑडियो सहित) | Mook Jivo par daya karo essay in hindi (with audio)

Written by vedictale

October 13, 2021

 

मूक जीवों पर दया करो

बरसात के दिन थे । रिमझिम बारीश हो रही थी । तालाब पानी से भरे हुए थे । मेंढक तालाब के किनारों पर एक साथ मिलकर टर्र-टर्र कर रहे थे । कभी पानी में कूदते कभी बाहर आ जाते । कुछ बच्चे वहाँ नहाने आये थे । तालाब किनारे बैठे बच्चों में से एक बच्चा उठा और उसने एक पत्थर उठाकर एक मेंढक की पीठ पर दे मारा । मेंढक ने उस बच्चे की ओर देखा और पानी में कूद गया । अब तो मेंढकों को पत्थर मारने में बच्चे को जैसे मजा आने लगा हो । बार बार मेंढकों को पत्थर मारने लगा, मेंढकों को कूदता देख बच्चा हँसने लगा । कुछ मेंढक जख्मी हो गये, कुछ तालाब में कूद गये ।

पत्थर लगने से मेंढकों को चोट लगती थी परंतु अब वो इंसान की भाषा में अपनी बात समझा तो नहीं सकते थे । अगर बोल सकते तो अवश्य वो उस बच्चे से उन्हें न मारने का अनुरोध करते और पूछते हम निरपराध मेंढकों ने तुम्हारा क्या बिगाडा है । पर वो मूक जानवर पत्थर खाकर दर्द होता तो सह लेते । और कुछ उपाय भी तो नहीं था उनके पास ।

वो बच्चा ये नहीं जानता था कि इस तरह से खेलना, मेंढकों को पत्थर से मारना, कीडे-मकोडों या मूक जानवरों को परेशान करना बहुत पाप कर्म है, और जो पाप करता है उसे दुःख भी भोगना पडता है । मरने के बाद ऐसे मनुष्यों को यमदूत पकडकर ले जाते हैं और नरकों में कई यातनाएँ दी जाती हैं । बच्चे को तो ये पता नहीं था वह तो मेंढकों को पत्थर मारना उन्हें यातना देना एक खेल समझ रहा था । वो उन असहाय मूक जानवरों को बार बार पत्थर मारने लगा ।

Also read : भक्त बालक ध्रुव की कहानी (ऑडियो के साथ) | Story of Balak Dhruv in hindi with audio

तभी अचानक कहीं से आवाज आयी ! ‘पकड लो इसे’ ! लडके ने सहसा पीछे मुडकर देखा । उस बच्चे ने देखा तीन काले-काले लम्बे बालों वाले यमदूत खडे हैं ।

Yamraj yamdoot image photo

उनकी आँखें लाल – लाल । बडे बडे उनके दाँत, टेढी आँखों से घूरकर देख रहे हैं । हाथों में डंडे और भाले रस्सीयाँ पकडे हुए हैं । उन्हें देखकर अच्छा भला आदमी भी डर जाये फिर ये तो एक बच्चा था । बच्चा उन्हें देखकर डर गया । आवाज लगाने लगा अपने साथी बच्चों को पर वहाँ उसके आसपास तो कोई था नहीं । जब वह खेल रहा था, तब दूसरे बच्चे तो नहाने चले गये थे ।

यमदूत बोले पकड लो इसे !

तभी दूसरा यमदूत बोला – यह बालक बहुत ही क्रूर है ।

तीसरा बोला फंदे में बाँध कर घसीटते हुए ले चलो इसे ।

बच्चा वहाँ बैठा सब सुन और देख रहा था । उसके तो मानो प्राण कंठ में आ गये हों । बच्चे ने साहस करते हुए पूछा – मुझे कहाँ ले जाओगे ।

नरक में ले जायेंगे । यमदूत बोले, वहाँ ले जाकर पाप करने वालों को तेल में तला जाता है, पकोडे के समान पकाया जाता है । आरी से चीरा जाता है, तलवारों से काटा जाता है ।

बच्चे ने याद किया जब माँ पकोडे तलती है तो उसका खौलता तेल जब हाथ या पैर पर छींटे भी गीर जायें तो कितना दर्द होता है । फफोले पड जाते हैं । ये याद करके बच्चा घबराया और बोला मैंने तुम्हारा क्या बिगाडा है, मुझे क्यों ले जाते हो । लडका गिडगिडाकर बोला मुझे छोड दो मुझे जाने दो । लडके ने उनसे प्रार्थना की ।

यमदूत बोला तू पापी है । तू महा अधम है । अब यदि कभी पाप न करे तो छोड देंगे ।

Also read : आखिर मरकर कहाँ गया ? (ऑडियो सहित) Aakhir markar kaha gaya (prerak kahani) with audio

बच्चा बोला मैं कसम खाता हूँ, कभी पाप नहीं करूँगा । बच्चे ने तुरंत दोनों कान पकडकर माफी माँगी और दूबारा कभी ऐसा पाप न करने की प्रतिज्ञा की । यमदूत तुरंत गायब हो गये । लडका दौडकर अपने घर आया और उसने अपनी माँ को सारी बातें बताई । बच्चे ने माँ से पूछा – माँ क्या सचमें ऐसे पाप का फल भोगना पडता है । माँ ने उसे गोद में बिठाया और बोला बेटा ! ये सही बात है, जो ऐसे निर्दोष मूक जानवरों को काटते या मारते हैं उन्हें अकारण सताते हैं, उन लोगों को यमदूत नरकों में भयानक यातनाएँ देते हैं । आज भले उन्हें अपनी गलती का अहसास न होता हो परंतु पापकर्मों का फल उन्हें भोगना अवश्य ही पडता है ।

माँ ने कहा – बेटा उन निरपराध मेंढकों को मारकर तू बडा अपराध कर रहा था । किसी भी निर्दोष मूक जानवरों को पीडा देना महापाप है ।

रामायण जी में कहा भी गया है –

पर हित सरिस धर्म नहिं भाई । पर पीड़ा सम नहिं अधमाई ॥
निर्नय सकल पुरान बेद कर । कहेउँ तात जानहिं कोबिद नर ॥1॥

इसका अर्थ है – दूसरों की भलाई के समान कोई धर्म नहीं है और दूसरों को दुःख पहुँचाने के समान कोई पाप नहीं है । समस्त पुराणों और वेदों का यह निर्णय मैंने तुमसे कहा है, इस बात को सज्जन लोग भलिभाँती जानते हैं ।।

प्रेरणा – इस कहानी से हमें प्रेरणा मिलती है कि हमें भी मूक पक्षियों, मूक जानवरों, किट-पतंगों आदि को कष्ट नहीं देना चाहिए उनपर दया करनी चाहिए । गर्मी में न जाने कितने ही पक्षी प्यास से तडप-तडप कर मर जाते हैं, घऱ के बार एक पानी का कटोरा भरकर गर्मीयों में रख देना चाहिए । कितनी ही गौमाता सडकों पर भूखी घूमती हैं । एक रोटी उन्हें भी खिला देनी चाहिए । ऐसा करने से आपके हृदय में भी संतोष और आनंद आयेगा बच्चों एकबार ऐसा पुण्यकार्य करके जरूर देखना कितना आनंद आता है ।


Share to the World!

1 Comment

  1. Rahul

    Bahut Achchi kahani hai.

    Reply

Submit a Comment

Your email address will not be published.

Subscribe Here

vedictale.com की हर नई कथाओं की notification पाने के लिए नीचे अपना नाम और इमेल डालकर सबस्क्राईब करें।

New Stories

संगठन की शक्ति (प्रेरणादायी कहानी) Sangathan Ki Shakti (prerak kahani)

संगठन की शक्ति (प्रेरणादायी कहानी) Sangathan Ki Shakti (prerak kahani)

इस कहानी से हमें प्रेरणा मिलती है की संगठन में बडा बल होता है । हमें सभी को संगठित रहना चाहिए । ये बात उस समय की है जब हमारे देश में ईंधन के लिए लकडी या उपलों का उपयोग किया जाता था… संगठन की शक्ति

read more
अनुभव का आदर | Anubhav Ka Aadar | Prerak Kahani in hindi

अनुभव का आदर | Anubhav Ka Aadar | Prerak Kahani in hindi

रात में तेज बारिश हुई थी । सुबह तो और भी अधिक चमचमाती धूप निकली । बकरी का बच्चा माँ का दूध भरपेट पीकर मस्त हो गया । फिर हरी घाँस को देखकर फुदकने लगा । गीली…

read more

Related Stories

error: Content is protected !! Please read here.