जैसी करनी वैसी भरनी (ऑडियो के साथ) | jaisi karni waisi bharani with Audio | Bachchon ki katha

Written by vedictale

September 9, 2021

जैसी करनी वैसी भरनी... jaisi karni waisi bharni hindi katha

 

जैसी करनी वैसी भरनी ।

ये एक रोचक कहानी है । प्राचीन काल की बात है । जंगल में एक भैस औऱ घोडा रहा करते थे । दोनों में मित्रता थी । वो जो कुछ करते साथ मिलकर किया करते थे । एक ही खेत में चरने जाया करते थे, एक ही रास्ते पर टहला करते थे, एक साथ एक ही तालाब पर पानी पिया करते थे । दोनों बडे आनंद से जंगल में रहा करते थे ।

एक दिन दोनों दोस्तों में किसी बात को लेकर थोडी तकरार हो गयी । जब वे घोडा और भैंस पानी पीने तालाब पर गये तो भैंस ने घोडे को अपने बडे बडे सींग मारकर वहाँ से भगा दिया । अब दोस्तों में तकरार तो हो ही जाती है पर एक दूसरे को मनाना चाहिए न की नाराज होना चाहिए । परंतु इधर उल्टा ही हुआ, घोडे को जब लगा की वो भैंस से नहीं जीत सकता तो वहाँ से भागकर वो एक आदमी के पास पहुँचा । घोडे ने उस आदमी से भैंसे को सबक सिखाने को कहा ।

मनुष्य बोला – मैं उस भैंस को कैसे सबक सिखा सकता हूँ । उसके तो बडे बडे सिंग हैं और वह मुझसे कितनी बलवान है, मैं भला कैसे उसे पकड सकता हूँ । न बाबा न मुझसे न होगा । इनसान ने मना कर दिया ।

घोडा आदमी से बोला – तुम एक मोटा डंडा लेकर मेरी पीठ पर बैठ जाओ । मैं बहुत तेज दौडता हूँ और भैंस तो आलसी है । तुम उसे डंडे से मार-मारकर उसे कमजोर कर देना और फिर रस्सी से बाँध लेना ।

आदमी बोला – मैं भला उस भैंस को बाँधकर क्या करूँगा । मुझे उसकी क्या जरूरत है ।

घोडा बोला – भैंस बहुत मीठा दूध देती है, जो तुम्हें बहुत अच्छा भी लगेगा । तुम उसे निकालकर पी लिया करना ।

आदमी को घोडे की बात पसंद आ गयी । उसने डंडा उठाया और बैठ गया घोडे की पीठ पर । दोनों भैंस के पास पहुँचे और भैस को डंडे से पीटने लगे । जब भैस अधमरी होकर गिर गयी, तो आदमी ने उसे बाँध लिया और अपने साथ बाँधकर घर ले आया । बदला ले लेने के बाद घोडा बहुत खुश हुआ ।

घोडा बोला – अच्छा अब मैं चलता हूँ ।

आदमी घोडे की लगाम खींचते हुए बोला – तुम कहाँ चले !

घोडा बोला – मैं अपने घर जाऊँगा और जंगल में हरी हरी घाँस चरूँगा । अब मुझे छोड दो !

आदमी उस घोडे की इस बात पर जोर जोर स हँसने लगा । आदमी बोला – मैं नहीं जानता था तुम इतना तेज दौड भी सकते हो औऱ सवारी के काम भी आते हो । मैं अब तुमको नहीं जाने दूँगा । तुमको भी बाँधकर अपने पास ही रखूँगा । मैं भैंस का दूध पीऊँगा और तुम्हारी सवारी किया करूँगा ।

घोडे को बहुत पछतावा होने लगा पर अब क्या हो सकता था । अपने दोस्त भैंसे के साथ घोडे ने जो दगा किया था वैसा ही फल घोडे को मिल गया था । घोडे और भैंसे को आदमी ने बंदी बना लिया था । जैसा उस घोडे ने भैंसे के साथ किया वैसा ही फल घोडे को भोगना पडा ।

प्रेरणा – हमें इस कहानी से प्रेरणा मिलती है कि संगठन में शक्ति है । हमेशा वफादार रहें, एक दूसरे को कभी धोखा न दें ।

क्या आप ये जानते हैं ! हमारा भारत देश इस वजह से गुलाम नहीं हुआ की हमारे पास वीर योद्धा नहीं थे । वरन हमारे भारत देश को इस वजह से गुलामी का मुख देखना पडा ! क्योंकी हमारे ही अपने चंद गद्दारों ने ! दुश्मनों का साथ देकर ! देश गुलाम होने दिया…


Share to the World!

0 Comments

Submit a Comment

Your email address will not be published.

Subscribe Here

vedictale.com की हर नई कथाओं की notification पाने के लिए नीचे अपना नाम और इमेल डालकर सबस्क्राईब करें।

New Stories

संगठन की शक्ति (प्रेरणादायी कहानी) Sangathan Ki Shakti (prerak kahani)

संगठन की शक्ति (प्रेरणादायी कहानी) Sangathan Ki Shakti (prerak kahani)

इस कहानी से हमें प्रेरणा मिलती है की संगठन में बडा बल होता है । हमें सभी को संगठित रहना चाहिए । ये बात उस समय की है जब हमारे देश में ईंधन के लिए लकडी या उपलों का उपयोग किया जाता था… संगठन की शक्ति

read more
अनुभव का आदर | Anubhav Ka Aadar | Prerak Kahani in hindi

अनुभव का आदर | Anubhav Ka Aadar | Prerak Kahani in hindi

रात में तेज बारिश हुई थी । सुबह तो और भी अधिक चमचमाती धूप निकली । बकरी का बच्चा माँ का दूध भरपेट पीकर मस्त हो गया । फिर हरी घाँस को देखकर फुदकने लगा । गीली…

read more

Related Stories

error: Content is protected !! Please read here.