भरोसा भगवान पर…(ऑडियो के साथ) | Bharosa Bhagwan Par with Audio | bachchon ki katha

Written by vedictale

September 9, 2021

भरोसा भगवान पर... bharosa bhagwan par

 

भरोसा भगवान पर ।

ठण्डी के मौसम में एक शाम आसमान में बादल घिर आये । एक नीम के पेड पर बैठे सभी कौवे काँव-काँव करने लगे थे और एक दूसरे से झगडा भी कर रहे थे । अब कौवे तो स्वभाव से ही झगडालू होते जो हैं । उसी समय वहाँ एक छोटी चिडिया आयी और उसी नीम के पेड की एक डाल पर बैठ गयी । चिडिया को देखकर कौवे उस पर टूट पडे और उसे पेड से भगाने लगे ।

बेचारी चिडिया बोली – भाईयों ! मुझे आज रात यहाँ बैठे रहने दो ! बादल घिर आये हैं, आँधी चल रही है, थोडी ही देर में बारिश शुरु हो जायेगी, मैं अपना घर का रास्ता भी नहीं ढूँढ पा रही हूँ । ऐसे में मैं कहाँ जाऊँगी !

कौवे बोले – कहीं भी जाओ ! यह हमारा घऱ है तू यहाँ से भाग !

चिडिया ने कहा – ये पेड तो सभी भगवान के बनाये हैं । इस ठण्डी के मौसम में यदि बारिश के साथ औले गिरने लगे तो भगवान ही हम सबके प्राण बचा सकते हैं । मैं बहुत छोटी सी चिडिया हूँ, मुझपर दया करो औऱ मुझे इस पेड पर आज रात बैठने दो भाई !

कौवे बोले – तू यहाँ से चली जा ! अगर नहीं जायेगी तो हम सब मिलकर तुझे मारेंगे । बडा भगवान भगवान करती है । अगर भगवान पर इतना ही भरोसा है तो भगवान से ही कोई जगह क्यूं नहीं माँग लेती !

कौवे होते ही स्वभाव से झगडालू हैं । वे आपस में झगडा किये बिना नहीं रह सकते तो ये तो फिर बाहर से उस पेड पर आयी एक छोटी चिडिया ही तो थी । सभी उस चिडिया को भगाने के लिए उस पर टूट पडे । कौवौं को काँव काँव करता देख चिडिया वहाँ से उड गयी ।

थोडी दूर जाने पर चिडिया को एक आम का पेड दिखा चिडिया उस पेड पर जाकर बैठ गयी । आँधी और बरसात के साथ रात में औले भी गिरने लगे । चिडिया जिस आम के पेड पर बैठी थी, उस पेड पर से एक मोटी डाल टूटकर गिर गयी और पेड में एक सुराग हो गया । चिडिया झट से उस सुराग में घुसकर बैठ गयी । उसे एक भी ओला न लगा ।

दूसरी तरफ तेज आँधी भारी बरसात और ऊपर से ओलों की मार ! कौवे काँव काँव करके इधर उधर उडने लगे पर जितना उडते उतना ही ओलों से मार खाकर, घायल होकर ऊपर से गिरने लगते । उनमें से बहुत से कौवे तो मर भी गये । जैसे तैसे रात समाप्त हुई ।

सुबह होते ही, जब थोडी धूप निकली तो चिडिया उस पेड के खोखल में से बाहर निकली, पंख फैलाकर, चहचहाती हूई भगवान को प्रणाम करने लगी । और वहाँ से उडकर चलने लगी ।

वापिस जाते समय रास्ते में वही नीम का पेड दिखा । उस पेड के किनारे घायल हुए बहुत से कौवे थे । उन्हीं में से जिस कौवे ने चिडिया को भगाया था वो भी घायल पडा था । चिडिया को देख बडी मुश्किल से कौवा बोला – चिडिया बहन ! तुम रात भर कहाँ रही ! तुम इन ओलों की मार से कैसे बच गयी !

चिडिया बोली – मैं आम के पेड पर बैठी थी और भगवान से प्रार्थना कर रही थी । दुख में पडे हुए असहाय जीव को भगवान के सिवा और कौन बचा सकता है ।

लेकिन भगवान केवल ओले से ही नहीं ! केवल चिडिया को ही नहीं ! जो भी भगवान पर भरोसा करता है और सच्चे हृदय से भगवान को याद करता है, पुकारता है उसे भगवान हर आपत्ति, हर विपत्ति में सहायता अवश्य करते हैं । तभी तो भगवान ने श्रीमद्भगवद्गीता में कहा भी है ।

ये यथा मां प्रद्यन्ते तांस्तथैव भजाम्यहम् । (श्रीमद्भगवद्गीता 4/11)

“जो भक्त जिस-जिस भाव से मुझे भजते हैं मैं उनपर उसी प्रकार अनुग्रह करता हूँ ।”


Share to the World!

0 Comments

Submit a Comment

Your email address will not be published.

Subscribe Here

vedictale.com की हर नई कथाओं की notification पाने के लिए नीचे अपना नाम और इमेल डालकर सबस्क्राईब करें।

New Stories

संगठन की शक्ति (प्रेरणादायी कहानी) Sangathan Ki Shakti (prerak kahani)

संगठन की शक्ति (प्रेरणादायी कहानी) Sangathan Ki Shakti (prerak kahani)

इस कहानी से हमें प्रेरणा मिलती है की संगठन में बडा बल होता है । हमें सभी को संगठित रहना चाहिए । ये बात उस समय की है जब हमारे देश में ईंधन के लिए लकडी या उपलों का उपयोग किया जाता था… संगठन की शक्ति

read more
अनुभव का आदर | Anubhav Ka Aadar | Prerak Kahani in hindi

अनुभव का आदर | Anubhav Ka Aadar | Prerak Kahani in hindi

रात में तेज बारिश हुई थी । सुबह तो और भी अधिक चमचमाती धूप निकली । बकरी का बच्चा माँ का दूध भरपेट पीकर मस्त हो गया । फिर हरी घाँस को देखकर फुदकने लगा । गीली…

read more

Related Stories

error: Content is protected !! Please read here.