श्राद्ध की महिमा | श्राद्ध कैसे मनाते है? श्राद्ध क्यों करते हैं? श्राद्ध कब है?

Written by vedictale

September 20, 2021

श्राद्ध की महिमा

श्राद्ध की महिमा | श्राद्ध कैसे मनाते है? श्राद्ध क्यों करते हैं?

सनातन धर्म की ये महानता है कि मनुष्य जीवन में कृतज्ञता की भावना हो । जो कि हिन्दू बच्चों में अपने माता-पिता के प्रति बचपन से ही देखी जा सकती है । सनातन धर्म का व्यक्ति अपने माता-पिता के जीवन काल में उनका आदर-सत्कार तो करता ही है, परंतु उनके मृत्यु के पश्चात भी उनके उनके अधूरे शुभ कार्यों को पूरा करने की कोशिश करता है । उनके लिए श्राद्ध करके अपनी श्रद्धा, भावना, प्रेम व कृत्ज्ञता अर्पण करता है ।  ‘श्राद्ध संस्कार’ इसी भावना से प्रेरित हैं ।

मृत्यु के बाद जीव को उनके कर्मानुसार स्वर्ग अथवा नरक में जगह मिलती है । पाप या पुण्य के फल भोगकर वह वापिस पृथ्वी पर जन्म लेता है । अपने पूर्वजों के लिए किये गये श्राद्ध कर्म की बडी भारी महिमा पुराणों में कही गयी है । पितरों के लिए एक विशिष्ट लोक होता है जिसे पितृलोक कहा जाता है । यदि आपके पितृगण पितृलोक में नहीं हैं बल्कि पृथ्वी पर मनुष्य, या किसी और योनी में हैं, या किसी और भी लोक-लोकान्तर में हों । तो भी यदि आप उनके लिए श्राद्ध करते हैं, तो श्राद्ध के प्रभाव से उस दिन वे जहाँ भी होंगे उन्हें उनके अनुकुल लाभ होगा । शास्त्रों के अनुसार पितृगणों के तृप्त होने पर आपको आपके इच्छित फलों की प्राप्ति होती है, और शौर्यवान, वीर, भक्त, संस्कारी एवं साहसी संतानों की प्राप्ति होती है ।

आज के युग में टैलीफोन, इंटरनेट आदि यंत्र कई किलोमीटर के फासले को दूर कर देते हैं, यह प्रत्यक्ष है । इन यंत्रों से भी शास्त्रीय मंत्रों का प्रभाव कई गुना ज्यादा होता है । भगवान श्रीरामचन्द्रजी, भगवान श्रीकृष्णजी भी श्राद्ध किया करते थे । पैठण के महान संत श्री एकनाथ जी महाराज के पितरों को बुलाकर श्राद्ध कराने की कथा जग विदित है ।

जिन माता-पिता ने हमें पाल-पोसकर इतना लायक बनाया, पढ़ाया-लिखाया, हममें भक्ति, ज्ञान एवं सनातन धर्म के संस्कारों का सिंचन किया उनका श्रद्धापूर्वक स्मरण करके, उनका श्राद्ध एवं तर्पण करके उन्हें प्रसन्न करना चाहिए । ऐसा करने का श्रेष्ठ पक्ष ही श्राद्धपक्ष कहलाता है । आश्विनमास के कृष्ण पक्ष में की गयी श्राद्ध-विधि, गया क्षेत्र में की गयी श्राद्ध विधी के समान मानी जाती है । इस विधि में मृतात्मा की पूजा एवं उनकी तृप्ति का उद्देश्य सम्मलित होता है ।

शास्त्रों के अनुसार पृथ्वीलोक में रहने वाले प्रत्येक आदमी पर कुछ ऋण माने गये हैं । जैसे देवऋण, पितृऋण एवं ऋषिऋण । श्राद्ध करने से मानव पितृऋण से मुक्त हो जाता है । यज्ञ करके देवताओं को भाग देने पर देवऋण से मुक्त हो जाता है । ऋषि-मुनि-संतों के ज्ञान व उपदेशों को अपने जीवन में लाने से, आदरसहित आचरण करने से आदमी ऋषिऋण से मुक्त हो जाता है ।

पुराणों के अनुसार कृष्ण पक्ष की अमावस (सर्वपितृ अमावस) के दिन सूर्य एवं चन्द्र की युति होती है । सूर्य कन्या राशि में प्रवेश करता है । इस दिन हमारे पितर यमलोक से सूक्ष्म रूप से धऱती पर अपने वंशजों के पास आते हैं । अतः उस दिन उनके लिए श्राद्ध करने से वे तृप्त होते हैं । एसा कहा गया है कि हमारी पृथ्वी का एक वर्ष पितृलोक का एक दिवस के समान होता है । पितृगण दिवस में एक बार भोजन गृहण करते हैं । वो समय होता है श्राद्ध पक्ष का । अतः इस समय श्राद्ध करके पितरों को तृप्त करना चाहिए ।

श्राद्ध के समय ध्यान रखने योग्य बातें –

जिस दिन श्राद्ध करना हो उस दिन किसी विशिष्ट व्यक्ति को न बुलायें, नहीं तो उनकी आवभगत में समय चला जायेगा और पितरों का अनादर होगा । इससे पितर नाराज भी हो सकते हैं । जिस दिन श्राद्ध करना हो उस दिन उत्साहपूर्वक भजन, कीर्तन, जप, ध्यान आदि करके हृदय को पवित्र करना चाहिए । स्नान आदि से निवृत्त होकर स्वच्छता पूर्वक भोजन बनाना चाहिए । भोजन में जिनका आप श्राद्ध कर रहे हैं उनकी प्रिय वस्तु बनानी चाहिए । घर में धुप दीप आदि अवश्य करना चाहिए । एक लोटे में जल लेकर उसमें काले तिल डालकर उसमें देखते हुए श्रीमद्भागवत गीता के सातवें अध्याय का माहात्म्य सहित पाठ करना चाहिए । उसके बाद उस जल को पितरों की प्रसन्नता के लिए प्रातःकाल ही भगवान सूर्य को पितरों के निमित्त अर्पण करना चाहिए । इस पाठ का फल पितरों को समर्पित करना चाहिए ।

श्राद्ध के आरम्भ और अंत में तीन बार निम्न मंत्र का जाप अवश्य करना चाहिए । इससे देवगणों व पितृगणों की प्रसन्नता प्राप्त होती है । मंत्र है :

देवताभ्यः पितृभ्यश्च, महायोगिभ्य एव च l
नमः स्वाहायै स्वधायै, नित्यमेव भवन्त्युत ll

अर्थ – समस्त देवताओं, पितरों, महायोगियों, स्वधा एवं स्वाहा सबको हम नमस्कार करते हैं l ये सब शाश्वत फल प्रदान करने वाले हैं l

श्राद्धकर्म में एक विशेष मंत्र उच्चारण करने से, पितरों को संतुष्टि होती है और संतुष्ट पितर आपके कुल खानदान को आशीर्वाद देते हैं । मंत्र है : ‘‘ॐ ह्रीं श्रीं क्लीं स्वधादेव्यै स्वाहा ।’’

श्राद्ध का प्रथम अधिकार पुत्र को होता है । जिसका कोई पुत्र न हो, उसका श्राद्ध उसकी बेटी के पुत्र कर सकते हैं l कोई भी न हो तो पत्नी ही अपने पति का बिना मंत्रोच्चारण के साथ श्राद्ध कर सकती है l पिण्डदान, तर्पण व श्राद्धकर्म ब्राह्मणों के साथ बैठकर करना चाहिए । आजकल सामुहिक श्राद्ध भी होते हैं । कई संतों के आश्रमों में (जैसे संत आशारामजी बापू के आश्रम में) भी इसकी व्यवस्था की जाती है । श्रेष्ठ ब्राह्मण श्राद्ध की सम्पूर्ण विधि के साथ वहाँ श्राद्ध करवाते हैं । श्राद्ध की सभी सामग्री भी आपको वहाँ उपलब्ध हो जाती है । श्रद्धा पूर्वक एक, तीन, पाँच या सात ब्राह्मणों को बुलाकर उनमें अपने पितरों की भावना करके उन्हें प्रीतीपूर्वक भोजन करवाना चाहिए । सामर्थ्य अनुसार दक्षिणा देकर प्रसन्न करना चाहिए । उनके आशिष लेने चाहिए । अपने पितृगणों का नाम लेकर उनके निमित्त दान करना चाहिए ।

श्राद्ध कर्म में तुलसी, कुश, दुर्वा, कपूर, काले तिल, धूप, दीप, रोली, मोली, अबीर, गुलाल, चंदन आदि पवित्र वस्तुओं का उपयोग किया जाता है । पिण्डदान, तर्पण, पूजन, अर्चन, प्रार्थना आदि सभी विधि श्राद्ध में की जाती हैं । ये सभी आप किसी श्रेष्ठ ब्राह्मण से, या फिर जहाँ सामुहिक श्राद्ध होता हो, वहाँ जाकर भी कर सकते हैं ।

एक बात का विशेष ध्यान रखना चाहिए । रजस्वला स्त्री को इन कार्यों से दूर रहना चाहिए । आपके घर में यदि जननाशौच या मरणाशौच चल रहा हो तो श्राद्ध कर्म न करें ।

सूक्ष्म जगत के लोग हमारी श्रद्धा से दी गयी वस्तु से तृप्त होते हैं । बदले में वे भी हमें मदद, प्रेरणा, प्रकाश, आनंद और शाँति देते हैं । हमें अपने पूर्वजों के ऋण से मुक्त होने के लिए और उनके शुभ आशीष प्राप्त करने के लिए श्राद्ध करना चाहिए । विधि सहित श्राद्ध करने से उत्तम संतान, धन-धान्य, सुख समृद्धि की प्राप्ति व कुल की वृद्धि होती है । अतः वर्ष में एक बार श्राद्धकर्म अवश्य करना चाहिए । पुराणों व धर्मश्रास्त्रों के अनुसार ये एक बहुत ही पुनीत व पुण्यदायी कार्य है । इससे आपके बच्चों में भी अच्छे संस्कार व अपने पूर्वजों के लिए सम्मान की भावना जागृत होती है ।


Share to the World!

0 Comments

Submit a Comment

Your email address will not be published.

Subscribe Here

vedictale.com की हर नई कथाओं की notification पाने के लिए नीचे अपना नाम और इमेल डालकर सबस्क्राईब करें।

New Stories

संगठन की शक्ति (प्रेरणादायी कहानी) Sangathan Ki Shakti (prerak kahani)

संगठन की शक्ति (प्रेरणादायी कहानी) Sangathan Ki Shakti (prerak kahani)

इस कहानी से हमें प्रेरणा मिलती है की संगठन में बडा बल होता है । हमें सभी को संगठित रहना चाहिए । ये बात उस समय की है जब हमारे देश में ईंधन के लिए लकडी या उपलों का उपयोग किया जाता था… संगठन की शक्ति

read more
अनुभव का आदर | Anubhav Ka Aadar | Prerak Kahani in hindi

अनुभव का आदर | Anubhav Ka Aadar | Prerak Kahani in hindi

रात में तेज बारिश हुई थी । सुबह तो और भी अधिक चमचमाती धूप निकली । बकरी का बच्चा माँ का दूध भरपेट पीकर मस्त हो गया । फिर हरी घाँस को देखकर फुदकने लगा । गीली…

read more

Related Stories

error: Content is protected !! Please read here.